Friday, February 6, 2009

Widgets

निष्कर्ष

This is one of the many poems written by my younger sister. I really love to read her poems. Whenever I go through her poems, I feel so proud of her.

आज कुछ पल हैं, अपने साथ होने को,
जीवन की रफ़्तार में अपनी गति समझने को,
मैं कठघरे में हूँ, उस मैं के आगे,
जो कभी मेरा आत्मीय था,
अब उसका होना ऐसे पलों पर आश्रित था.

मेरे दृश्य पटल पर सारा अतीत चलचित्र है,
अचंभित सी वहां अपनी मौजूदगी देखती हूँ,
दृश्य पर दृश्य अपने अस्तित्व की तलाश है,
पर अपनी पहचान धुधली नज़र आती है,
क्यूँ अपनी जय पराजय में मैं स्वयम दर्शक मात्र हूँ ?

जिंदगी चंद दस्तावेजों की ही मुहताज क्यूँ है?
क्या मेरा समर्पण मेरी जीत नहीं है ?
प्राणवान होना हास्य पैर नहीं स्वाश पर निर्भर है,
तो हँसने की ही चाह क्यूँ करती हूँ मैं?
क्या मेरे रुदन में कोई सार्थकता नहीं है?

क्यूँ अपनी नीयति को अपनाना नहीं आता मुझे ?
वो जो मेरे होने से भी अर्थहीन है,
उसके होने में अपने अर्थ की तलाश कैसी?
शायद इन सवालों के जबाब दूसरे सवाल ही हैं
और निष्कर्ष की चाह व्यथा को आमंत्रण.

-- वंदना वशिष्ठ

 

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना है।बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  2. अंतर्मन की व्यथा को सुंदर तरीके से उभरा है

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  4. सुंदर रचना
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. Nice post olz come my blog u r welcome

    ReplyDelete
  6. vartman ko to svikar karna hee hota hai. narayan narayan

    ReplyDelete